SBI ग्राहक हैं तो जरूर जानें कैसे मेल-SMS की ठगी से खाली हो जाता है बैंक खाता

0

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। Phishing के बारे में आपने सुना ही होगा। यह ई-मेल, टेक्स्ट संदेशों के रूप में आते हैं। साइ‍बर ठग उन्हें ऐेसा डिजाइन करते हैं ताकि वे Trusted businesses, financial institutions और सरकारी एजेंसी से आए हुए लगें। इन्‍हें यूजर की जरूरी जानकारी लेने के इरादे से भेजा जाता है। अगर आपको कोई मेल मिले, जो Spam लगे तो उसे इग्‍नोर कर दें। उस मेल में दिए गए किसी भी लिंक पर क्लिक न करें। इसे डिलीट कर दें।

देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने इस फिशिंग से लोगों को होशियार किया है। उसके नाम का इस्‍तेमाल करने वाले Spam ईमेल की रिपोर्ट तुरंत करें। आप report.phishing@sbi.co.in आईडी पर इसे रिपोर्ट कर सकते हैं।

कैसे होती है फिशिंग

फिशिंग हमले यूजर की फाइनेंशियल जानकारी चुराने के लिए होते हैं।

यूजर को एक Spam ई-मेल आता है, जो Valid इंटरनेट पते से आया लगता है।

मेल में हाइपरलिंक पर क्लिक करने के लिए कहा जाता है।

हाइपरलिंक पर क्लिक करते ही यूजर फेक साइट पर पहुंच जाता है।

मेल में इनाम देने का झांसा रहता है या पेनल्टी की चेतावनी।

यूजर को अपनी व्यक्तिगत जानकारी जैसे पासवर्ड और क्रेडिट कार्ड और बैंक खाता संख्या आदि को अपडेट करने के लिए कहा जाता है।

कैसे बचें फिशिंग से

किसी Spam ई-मेल से आए लिंक को इग्‍नोर करें।

कभी भी SMS पर व्यक्तिगत जानकारी न दें। मसलन खाता संख्या, पासवर्ड या महत्वपूर्ण जानकारी, जिसका इस्‍तेमाल धोखाधड़ी में हो सके।

फोन या मेल पर कभी भी अपना पासवर्ड न दें।

ध्यान रखें

बैंक की वेबसाइट पर जाने के लिए सही Url लिखकर लॉगइन करें।

यूजर आईडी और पासवर्ड केवल सेफ लॉगिन पेज पर दें।

लॉगिन पेज का Url ‘https://’ से शुरू होता है। ‘s’ का मतलब सुरक्षित है और वेब पेज एन्क्रिप्शन का इस्‍तेमाल करता है।

ब्राउजर के दाईं ओर टॉप पर लॉक साइन और वेरीसाइन सर्टिफिकेट भी चेक कर सकते हैं।

एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर, स्पाईवेयर फ़िल्टर, ई-मेल फ़िल्टर और फायरवॉल प्रोग्राम से कंप्यूटर नियमित रूप से अपडेट करें।

गलती से कैसे बचाएं

अगर गलती से PIN किसी को बता दिया है तो क्या करें--

यूजर को लगता है कि उसे धोखा दिया गया है या उसने ऐसी जगह पर व्यक्तिगत जानकारी दी है, जहां नहीं करनी चाहिए तो वह बचने के लिए यहां बता सकता है।

अपने बैंक/वित्तीय संस्थान या क्रेडिट कार्ड कंपनी से संपर्क करें।

स्थानीय पुलिस से संपर्क करें।

फिशिंग की रिपोर्ट report.phishing@sbi.co.in पर करें।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
Post a Comment (0)
To Top